कर्ज में डूबा देश का सबसे पुराना फुटबॉल क्लब, अब किंग खान का सहारा

नई दिल्ली, स्पोर्ट्स डेस्क Updated: 21 मार्च, 2017 9:03 AM

+ -

भारत के सबसे पुराने क्लब मोहन बागान को कर्ज और संकट से उबारने के लिए बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान हाथ बढ़ा सकते हैं। बीते कई सालों से बागान की स्थिति बदतर होती जा रही है। कारोबारी और क्लब में अंशधारक विजय माल्या की ओर से कोई मदद नहीं मिल पाने के कारण फुटबॉल क्लब ने नई राह तलाशने का फैसला किया है। 

क्लब के शीर्ष प्रबंधन को लगता है कि उन्हें खराब स्थिति से उबरने के लिए आईएसएल में भागीदारी करनी ही होगी।पर इसमें मोटी रकम की जरूरत पड़ेगी।इसमें उन्होंने शाहरुख की मदद की मांगी। सूत्रों की मानें तो बॉलीवुड में किंग खान के नाम से मशहूर फिल्म स्टार ने रजामंदी जाहिर कर दी है।

माल्या बड़ी अड़चन : मोहन बागान की राह में सबसे बड़ी अड़चन कारोबारी विजय माल्या हैं। माल्या ने 1998 में क्लब की 49.99 हिस्सेदारी खरीदी थी। तब उन्होंने क्लब की देखरेख यूनाइटेड मोहन बागान फुटबॉल टीम प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी बनाकर क्लब का प्रबंधन संभालने की जिम्मेदारी दी। कई साल तक अच्छा रहा। पर नवंबर 2014 में माल्या की कंपनियों की आपसी उठापटक में क्लब के अधिकार नई कंपनी डिएगो के पास चले गए, जिसे फुटबॉल में कोई दिलचस्पी नहीं थी। 

बास्केटबॉल की इस महिला खिलाड़ी को हिजाब पहनने पर निकाला

कर्ज में डूबे : नई कंपनी की बेरुखी से मोहन बागान के लिए संकट पैदा हो गया। पिछले वित्तीय वर्ष में क्लब का घाटा बढ़कर 1.12 करोड़ पहुंच गया। यह उसके पिछले निम्नतम स्तर 24.52 लाख से कई गुना ज्यादा था। क्लब की न्यूनतम जरूरतों को पूरा करने के लिए बागान के प्रबंधकों को तीन करोड़ का कर्ज उठाना पड़ा। 

दिक्कतें और भी : मोहन बागान के महासचिव अंजन मित्र ने कहा कि वे क्लब को उबारने के लिए हर जगह हाथ पांव मार रहे हैं। शाहरुख की कंपनी के अलावा उनकी कई जगह बात हो रही है। आईपीएल टीम कोलकाता नाइटराइडर्स के मालिक शाहरुख को कोलकाता के खेलों में खास दिलचस्पी है। वह पश्चिम बंगाल राज्य के ब्रांड एंबेसडर भी हैं। यही क्लब की उम्मीद की सबसे बड़ी वजह भी है। पर यदि माल्या ने शेयर देने से इनकार कर दिया तो बागान के सामने अस्तित्व का संकट गहरा जाएगा।

एतिहासिक
127 साल पुराना है देश का पहला फुटबॉल क्लब
1889 में भूपेंद्र नाथ बोस ने स्थापना की
284सबसे ज्यादा कुल खिताब मोहन बागान के नाम

जरूर पढ़ें

From around the web