पेरिस में लेटर बम फटा, स्कूल में भी फायरिंग से दो घायल

पेरिस, एजेंसी Updated: 16 मार्च, 2017 8:22 PM

+ -

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पेरिस कार्यालय में गुरुवार को एक पार्सल में धमाका हो गया। घटना में पार्सल खोलने वाला शख्स घायल हो गया। पेरिस पुलिस विभाग ने कहा कि धमाके के बाद आईएमएफ और विश्व बैंक के कार्यालय में तलाशी अभियान छेड़ा गया है। एक और घटना में फ्रांस के दक्षिण शहर ग्रासे में एक हाई स्कूल में गुरुवार को गोलीबारी में कम से कम दो लोग घायल हो गये। गोलीबारी में हेड टीचर को निशाना बनाया गया। एक पुलिस सूत्र ने बताया कि टॉकविल हाई स्कूल में गोलीबारी के बाद एक राइफल, दो पिस्तौल और दो ग्रेनेड के साथ 17 वर्षीय छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

चुनावी नतीजों से डरा चीन, कहा- भारत के लिए ठीक लेकिन हमारे लिए मुसीबत

पेरिस में पिछले दो साल में आतंकी हमलों के बीच यह घटना सामने आई है। देश में डेढ़ माह बाद राष्ट्रपति चुनाव होने वाले हैं। एक दिन पहले ही जर्मनी के वित्त मंत्रालय के डाक कार्यालय में भी विस्फोटक पदार्थ युक्त एक पत्र मिला था। उसकी जिम्मेदारी यूनान के आतंकी समूह कांस्पिरेसी ऑफ फायर सेल्स ने ली थी। जर्मनी विदेश मंत्री वोल्फगैं चॉयबल के नाम यह पार्सल भेजा गया था।

हमलावरों के बारे में विरोधाभासी सूचनाएं मिल रही है। ऐसी सूचना है कि दूसरा संदिग्ध फरार हो गया। पुलिस ने शुरुआत में एएफपी को बताया कि वे उसके साथी की तलाश कर रहे हैं। अन्य पुलिस सूत्र ने कहा कि हमलावर ने अकेले ही इस घटना को अंजाम दिया। ग्रासे टाउन हॉल से जारी एक बयान के अनुसार दो छात्रों ने प्रधानाचार्य को गोली मारी।

उबर ड्राइवर की करतूत को युवती ने फेसबुक पर लिखा, पोस्ट वायरल

शिक्षा अधिकारियों ने कहा कि नीस के रिवेरा रिजॉर्ट के पश्चिम में करीब 40 किलोमीटर दूर स्थित शहर में सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। पेरिस में नवंबर 2015 में आईएस के हमले समेत कई हमलों के बाद फ्रांस में अब भी आपातकाल लागू है। पेरिस हमले में 130 लोग मारे गए थे। आतंकी हमलों से घबराये हुये देश में प्रशासन ने सभी स्कूलों के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी है। यह गोलीबारी ऐसे समय में हुई है जब दो राउंड के राष्ट्रपति चुनाव में छह सप्ताह से भी कम समय रह गया है। शिक्षा अधिकारी इमानुएल इथिस ने टि्वटर पर कहा कि छात्र सुरक्षित हैं। उन्होंने चिंतित अभिभावकों से स्कूल न जाने का आग्रह किया। स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि कई छात्र भाग गये थे और आसपास के सुपरमाकेर्ट में घुस गये थे जिससे लोगों के बीच हमले की अफवाहें फैल गईं।

इन 12 बातों से समझें आखिर ईवीएम से छेड़छाड़ क्यों संभव नहीं
 

 

जरूर पढ़ें

From around the web