अजीब त्योहार : यहां चंद पैसों के लिए दांत से काटते बैंलों की पूंछ

अजीब त्योहार : यहां चंद पैसों के लिए दांत से काटते बैंलों की पूंछ

1/2अजीब त्योहार : यहां चंद पैसों के लिए दांत से काटते बैंलों की पूंछ

नई दिल्ली । लाइव हिन्दुस्तान टीम Updated: 20 मार्च, 2017 2:35 PM

+ -

इंडोनेशिया में परंपरा के नाम पर मनाए जाने वाले त्योहार पाकु जावी में बेजुबान जानवरों के साथ अत्याचार की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं जो हैरान करने वाली हैं।

इंडोनेशिया का यह त्योहार 'पाकु जावी' कर्नाटक के उत्सव कम्बाला जैसा ही होता है।

पाकु जावी त्योहार के जरिए कुछ पैसे बनाने के लिए लोग दांत से बैलों की पूछ तक काट लेते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इस उत्सव में कीचड़ वाले एक ट्रैक में किसान अपने बैलों की रेस कराते हैं। रेस में उनके बैल और ज्यादा तेजी से भागें इसके लिए वह बैलों की पूंछ मरोड़ते हैं। कई बार तो लोग दांत से बैलों की पूंछ काट लेते हैं।

यूपी के नए CM योगी आदित्यनाथ के बारे में ये 8 चीजें जरूर जानें
 

सावधान! 137 साल की दूसरी सबसे गर्म फरवरी, जानें आगे क्या होगा हाल?

चंद पैसों के लिए करते हैं क्रूरता
पाकु जावी में होने वाली बैलों की अजीब रेस में किसान केवल रेस जीतने के लिए बैलों से क्रूरता नहीं करते, बल्कि इसके पीछे चंद पैसों का लालच है।

 

जानकारी अनुसार, रेस में जिस किसान की जोड़ी जीतती है उसकी कीमत सबसे ज्यादा हो जाती है। यानी जब वह अपने बैलों को बाजार में या दूसरे किसान को बेचता है तो उसे बाकी बैलों के मुकाबले दोगुनी रकम मिलती है। किसानों का मानते हैं रेस जीतने वाले बैंलों की जोड़ी सबसे ज्यादा ताकतवर होती है।

इंडोनेशिया में पाकु जावी मनाए जाने की परंपरा करीब 400 साल पुरानी है।

आगे पढ़ें भारत के उत्सव कम्बाला के बारे में-

जरूर पढ़ें

From around the web