खतरे में छात्रों का भविष्य, 23 विश्वविद्यालय व 279 संस्थान फर्जी 

नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान टीम Updated: 20 मार्च, 2017 4:38 PM

+ -

 देश में छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। ये बात खुद यूजीसी और ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) की वेबसाइट कह रह ही। जी हां, वेबसाइट के मुताबिक देश के भीतर 23 फर्जी विश्वविद्यालय और 279 फर्जी तकनीकी संस्थान हैं। 

 यूजीसी और ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) ने पिछले महीने अपनी वेबसाइट्स पर इस तरह के फर्जी संस्थानों की लिस्ट डाली थी और अगले महीने से शुरू होने जा रहे नए ऐकडेमिक सेशन को लेकर छात्रों को चेताया था। इसमें बताया गया है कि सिर्फ दिल्ली में ही 66 ऐसे कॉलेज हैं जो फर्जी हैं। इसके अलावा 7 विश्वविद्यालय को भी फर्जी बताया गया है।

तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में बड़ी संख्या में ऐसे फर्जी संस्थान हैं। ये संस्थान इंजिनियरिंग एवं अन्य तकनीकी कोर्स ऑफर करते हैं, लेकिन इनको रेग्युलेटर से मान्यता नहीं मिली हुई है यानी इन संस्थानों को डिग्री प्रदान करने का अधिकार नहीं है। इन संस्थानों द्वारा जारी किया गया एजुकेशन सर्टिफिकेट कागज के एक टुकड़े के सिवा कुछ और नहीं है।

मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री महेंद्र नाथ पांडे ने राज्यसभा को हाल ही में बताया था कि मंत्रालयों ने राज्यों को फर्जी विश्वविद्यालयों की जांच करने और उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराने का निर्देश दिया है।

जरूर पढ़ें

From around the web