ग्रेटर फरीदाबाद में कारोबारी की कार के अंदर गोली मारकर हत्या

फरीदाबाद वरिष्ठ संवाददाता Updated: 20 मार्च, 2017 10:38 PM

+ -

ग्रेटर फरीदाबाद में वजीरपुर मास्टर सड़क पर सोमवार दिनदहाड़े अज्ञात लोगों ने कार के अंदर सेक्टर-17 निवासी एक बिल्डिंग मैटेरियल सप्लायर की गोली हत्या कर दी। मृतक कारोबारी का शव वजीरपुर गांव के पास मास्टर सड़क पर उनकी कार के अंदर पड़ा मिला। कार से मृतक का मोबाइल फोन गायब मिला है। भूपानी थाना पुलिस ने मृतक के बड़े भाई रामवीर की शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। हत्या का अभी तक कोई कारण सामने नहीं आया है। 

पुलिस के मुताबिक, मूल रूप से खेड़ी कलां गांव निवासी 44 वर्षीय जगदीश चंद सेक्टर-17 में अपने परिवार के साथ रहते थे। वह बिल्डिंग मैटेरियल सप्लाई के साथ-साथ प्रॉपर्टी और शेयर की खरीद-फ्रोख्त का भी काम करते थे। सोमवार दोपहर करीब 12 बजे वह ब्रेजा कार में सवार होकर अपने घर से निकले थे। 

सोमवार शाम करीब 3:30 बजे पुलिस को सूचना मिली कि वजीरपुर के पास मास्टर सड़क पर एक ब्रेजा कार के अंदर शव पड़ा हुआ है। सूचना मिलने के बाद एसीपी यशपाल खटाना,  भूपानी थाना एसएचओ महेश कुमार, खेड़ी पुल पुलिस चौकी प्रभारी सुमेर सिंह, डीएलएफ अपराध जांच शाखा की टीम और फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉक्टर मनीषा अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गईं। मृतक की गाड़ी के पंजीकरण नंबर और घटनास्थल पर जमा हुई भीड़ से मृतक की पहचान हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए बीके अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। पुलिस का मानना है कि कारोबारी को गोली नाक पर मारी गई थी। नाक से गोली सिर के पीछे से निकल गई थी। पोस्टमार्टम होने के बाद ही स्पष्ट होगा कि गोली कहां से लगी थी।

सीसीटीवी फुटेज में दिखे संदिग्ध: पुलिस ने घटनास्थल के आस-पास की सीसीटीवी फुटेज की जांच की है। एक दुकान पर लगे कैमरे से पता चला है कि 12:48 पर कार से दो संदिग्ध उतरते हुए नजर आ रहे हैं। पुलिस का दावा है कि कार से उतरने वाला एक था। कार का अगला शीशा भी क्षतिग्रस्त है। पुलिस ने अपने मुखबिरों को सीसीटीवी फुटेज दिखाई है। फुटेज के आधार पर बदमाशों की तलाश की जा रही है। पुलिस टीम ने कई जगह छापेमारी भी की है। लेकिन अभी तक हत्यारों का सुराग नहीं लगा है।

कुछ माह पहले ही बेटा हुआ था: पुलिस के मुताबिक, कारोबारी तीन बेटियों और एक पुत्र के पिता थे। कुछ माह पहले ही वह पुत्र के पिता बने थे। जिससे पूरे घर में खुशियां मनाई गई थीं। उनके जानकारों का कहना है कि वह मिलनसार व्यक्ति थे। अपने भाइयों के साथ ही रहते थे। उनकी किसी से कोई रंजिश नहीं थी न ही किसी से लेन-देन को लेकर कभी उनका विवाद हुआ था।

मृतक कारोबारी की किसी से रंजिश नहीं थी। परिजनों ने किसी पर शक भी नहीं जताया है। मृतक का मोबाइल फोन गायब है, लेकिन पर्स में नकदी और कार्ड वगैरह मिले हैं... 
महेश कुमार, एसएचओ, भूपानी थाना 

जरूर पढ़ें

From around the web