19 लाख नवसाक्षरों ने दी बुनियादी साक्षरता परीक्षा

पटना, हिन्दुस्तान ब्यूरो Updated: 20 मार्च, 2017 11:03 AM

+ -

राज्यभर में 19 लाख से अधिक नवसाक्षर रविवार को उत्साह से बुनियादी साक्षरता परीक्षा में शामिल हुए। इनमें 80 फीसदी महिलाएं थीं। शिक्षा विभाग के जनशिक्षा निदेशालय ने यह परीक्षा 8749 मध्य विद्यालयों में बनाए गए केन्द्रों पर ली। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) ने बुनियादी परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र तैयार किया था। एनआईओएस परीक्षा में उत्तीर्ण नवसाक्षरों को प्रमाण पत्र देगा। 

परीक्षा को लेकर जनशिक्षा निदेशालय एक माह से तैयारी में जुटा था। प्रश्नपत्र पहले ही जिलों व प्रखंडों को भेज दिए गए थे। परीक्षा का निरीक्षण करने केन्द्र सरकार के संयुक्त सचिव तथा नेशनल लिटरेसी मिशन के महानिदेशक अजय सिर्की खुद बिहार आए थे। उन्होंने पटना के जमालुद्दीनचक पंचायत और आरा के परीक्षा केन्द्रों का मुआयना किया।

महापरीक्षा 
-एनएलएमए के डीजी ने किया पटना व आरा के परीक्षा केंद्रों का मुआयना 
-19 लाख में 80 फीसदी महिलाए
-राज्य के 8749 केंद्रों पर हुई परीक्षा  

साक्षरता में बिहार के काम को सराहा
केन्द्रीय संयुक्त सचिव अजय सिर्की ने साक्षरता में बिहार के प्रयासों की जमकर तारीफ की। रविवार की सुबह प्रधान शिक्षा सचिव आरके महाजन की मौजूदगी में जनशिक्षा निदेशक ने बिहार में साक्षरता को लेकर चल रहे प्रयासों का डीजी के समक्ष प्रजेंटेशन दिया। उन्हें साक्षरता की दिक्कतों से भी अवगत कराया गया। 

प्रेरकों तथा स्वयंसेवकों के न्यूनतम भुगतान, समय पर केन्द्र द्वारा राशि जारी नहीं करने तथा साक्षरता परीक्षा का प्रमाण पत्र छह माह में जारी होने से नवसाक्षरों के उत्साह कमने का मुद्दा रखा। श्री सिर्की ने इन्हें जल्द सुलझाने का भरोसा दिया। 

जनशिक्षा निदेशक डॉ. विनोदानंद झा ने कहा कि राज्यभर में सफतापूर्वक परीक्षा संचालित हुई। केन्द्र सरकार ने 20 लाख नवसाक्षरों के इस परीक्षा में शामिल कराने का लक्ष्य रखा था। 19 लाख 7 हजार 920 नवसाक्षरों ने परीक्षा दी। केन्द्र प्रायोजित साक्षर भारत अभियान और बिहार की स्वयंवित्तपोषित मुख्यमंत्री महादलित, अतिपिछड़ा, अल्पसंख्यक अक्षर आंचल योजना के तहत छह माह और 200 घंटे की बुनियादी साक्षरता पाने वाले परीक्षा में शामिल हुए। परीक्षा केंद्रों के निरीक्षण के दौरान जनशिक्षा के सहायक निदेशक गालिब खान भी अजय सिर्की के साथ थे। 

नवसाक्षरों को मिलेगा योजनाओं का लाभ: बुनियादी साक्षरता परीक्षा (कक्षा एक व दो) उत्तीर्ण करने वाले नवसाक्षरों को प्रमाण पत्र मिलने के बाद कई फायदे होंगे। गालिब खान ने बताया कि एक तो आगे वे समकक्षता परीक्षा में शामिल होंगे और साक्षरता के सतत मुहिम से जुड़ेंगे, दूसरा उन्हें जीविका समेत अन्य कल्याणकारी योजनाओं से जोड़कर उसका लाभ दिया जाएगा। 

केन्द्रीय संयुक्त सचिव
-जनशिक्षा निदेशक ने बिहार में साक्षरता को लेकर चल रहे प्रयासों का प्रजेंटेशन दिया
-महिलाओं से केंद्रीय संयुक्त सचिव ने किया संवाद

नेशनल लिटरेसी मिशन के महानिदेशक व केंद्रीय संयुक्त सचिव अजय सिर्की ने नवसाक्षर महिलाओं से संवाद भी किया। जब उन्होंने खगौल में पूछा कि आप इतनी देर से क्यों पढ़ाई कर रही हैं तो घूंघट की ओट से एक महिला ने कहा, गरीबी में न पढ़ली। अब सुविधा मिललै तो नाम, गाम, पति बेटा के नाम सहित सब सीख गेली। 

जरूर पढ़ें

From around the web